HomeCountryटॉप-10 में चयनित एक-एक लाख रूपये ईनामी गैंगस्टर विक्रम सिंह नांदिया (Vikram...

टॉप-10 में चयनित एक-एक लाख रूपये ईनामी गैंगस्टर विक्रम सिंह नांदिया (Vikram Singh Nandia) साथी हिस्ट्रीशीटर दिनेश बम्बानी समेत गिरफ्तार

टॉप-10 में चयनित एक-एक लाख रूपये ईनामी गैंगस्टर विक्रम सिंह नांदिया (Vikram Singh Nandia) साथी हिस्ट्रीशीटर दिनेश बम्बानी समेत गिरफ्तार

डीजीपी श्री मिश्रा ने टीम को दी बधाई:-

आयुक्तालय से टॉप-10 में चयनित और एक लाख रूपये ईनामी गैंगस्टर विक्रम सिंह नांदिया (Vikram Singh Nandia) को पुलिस ने साथी हिस्ट्रीशीटर दिनेश बम्बानी के साथ मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया। गैंगस्टर, हार्डकोर विक्रमसिंह नांदिया के विरूद्ध गंभीर जानलेवा हमला, लूट, जबरन वसूली, अवैध हथियार रखने जैसे 25 गंभीर प्रकरण जबकि दिनेश बम्बानी के विरुद्ध 10 गंभीर प्रकृति के आपराधिक मुकदमे दर्ज है।

महानिदेशक पुलिस श्री उमेश मिश्रा एवं एडीजीपी क्राइम श्री दिनेश एमएन ने एक लाख रूपये के ईनामी गैंगस्टर विक्रम सिंह नांदिया (Vikram Singh Nandia) की गिरफ्तारी पर पुलिस टीम को बधाई दी है।
जोधपुर
जोधपुर कमिश्नर श्री रवि दत्त गौड़ ने बताया कि वीतरात सिटी, बोरानाडा में हिस्ट्रीशीटर राकेश मांजू पर फायरिंग का मुख्य सुत्रधार हिस्ट्रीशीटर विक्रम सिंह नांदिया है। अतिरिक्त महानिदेशक पुलिस, अपराध श्री दिनेश एम एन के सुपरविजन में विक्रमसिंह नांदिया की गिरफ्तारी के हरसंभव प्रयास किये जा रहे थे। इसकी गिरफ्तारी के प्रयास के दौरान पूर्व में पुलिस टीमों द्वारा नादिया के घर छापामारी कर चार वाहन स्कॉर्पियो, मारुति बलेनो, बोलेरो कैंपर, एक जेसीबी 22 हजार नगद समेत बिजली के सामान जब्त किए थे।
बोरानाडा थाना क्षेत्र में गैंगस्टर राकेश मांजू पर फायरिंग की घटना की गंभीरता को देख कमिश्नर श्री गौड़ के निर्देशन में डीसीपी ईस्ट डॉo अमृता दुहन एवं डीसीपी वेस्ट श्री गौरव यादव के सुपरविजन में दोनों जिलों की विशेष टीमों द्वारा गैंगस्टर विक्रम सिंह नांदिया की गिरफ्तारी हेतु प्रयास किये जा रहे थे। इसी क्रम में कॉन्स्टेबल गिरवर सिंह और अकरम खान ने लगातार दो दिन नादिया प्रभाती गांव में अभियुक्त के रिश्तेदारों की गतिविधियों पर नजर रखी। इससे यह पता लगा कि वांछित अभियुक्त के भाई की होटल से एक आदमी पहाड़ियों में दोनों टाइम खाने का टिफिन लेकर जाता है।
कॉन्स्टेबल अकरम कानि. द्वारा वांछित अभियुक्त के परिजनों के मोबाइल नम्बरों का विशलेषण कर तकनीकी रूप से भी यह स्थापित कर लिया कि पहाड़ियों के छुपे किसी व्यक्ति का परिजनों से सम्पर्क है। विक्रम सिंह नांदिया (Vikram Singh Nandia) प्रभावती गांव से बंधड़ा की पहाड़ियों की तरफ जाने वाले चार अलग-अलग रास्तों पर हमेशा कोई ना कोई गांव के लड़के बैठे होते थे ताकि पुलिस की कोई गतिविधी होने पर वांछित अभियुक्त को सतर्क कर भगा सके।
मंगलवार अलसुबह टीम प्रभारी पुलिस निरीक्षक भारतसिंह के नेतृत्व में टीम के सदस्यों एसआई दिनेश डांगी, हेड कांस्टेबल गंगासिंह, कॉन्स्टेबल किशनसिंह, गिरवरसिंह व अकरम खान ने बंधड़ा पहाड़ी के पीछे 10 किलोमीटर पैदल चल कर पहाड़ी पर घेराबंदी की। दोपहर को पहाड़ी पर भूरिया बाबा मंदिर में एक व्यक्ति खाने का टिफिन लेकर आया, उसी समय विक्रमसिंह नांदिया मंदिर में बने कमरे से बाहर निकला, जिसे टीम ने चारों तरफ से घेराबंदी कर दस्तयाब कर लिया। साथ मे उसके सहयोगी चोपासनी हाउसिंग बोर्ड थाने के हिस्ट्रीशीटर दिनेश बम्बानी को भी गिरफ्तार किया गया।

आपसी गैंगवार का विवरण:-

हिस्ट्रीशीटर दिनेश बंबानी व हार्डकोर अपराधी कैलाश मांजू के मध्य रूपयों को लेकर विवाद काफी वर्षो से चल रहा है जिसमें दिनेश बंबानी पर कैलाश मांजू द्वारा पूर्व में फायरिंग भी करवा रखी है। इसके बाद दिनेश बंबानी ने अपनी सुरक्षा के लिये अपने साथ हिस्ट्रीशीटर विक्रम सिंह नांदिया (Vikram Singh Nandia) को रखना शुरू कर दिया था। इसके बाद दोनों पक्षों में लगातार मुकदमें तथा फायरिंग की घटनाए हो रखी है।
करीब 02 वर्ष पूर्व गैंगस्टर कैलाश मांजू के भतीजे राकेश मांजू द्वारा विक्रम नांदिया पर अंधाधुंध फायरिंग की गई थी, जिसमें हिस्ट्रीशीटर विक्रमसिंह नांदिया को पीठ में गोली भी लगी थी। इसके बाद विक्रमसिंह नांदिया तथा दिनेश बंबानी ने हार्डकोर कैलाश मांजू को जान से मारने के लिये भीलवाड़ा दोहरे हत्याकांड के कुख्यात अपराधी राजू फौजी को 80 लाख की सुपारी दी थी, लेकिन उससे पहले ही पुलिस ने त्वरित कार्यवाही करते हुए अपराधियों को गिरफ्तार किया जिससे बहुत बड़ी वारदात होने से टल गई, परन्तु इनके आपस में गैंगवार होने की पूरी पूरी संभावनाएं थी।

वारदात की प्लानिंग:-

स्वस्थ होने के बाद हिस्ट्रीशीटर विक्रम सिंह नांदिया (Vikram Singh Nandia) तथा दिनेश बंबानी ने राकेश मांजू से बदला लेने उसे जान से मारने के लिये प्लानिंग की। जिसके अनुसार विक्रम सिंह नांदिया अपने गांव में ही रूका तथा अपने साथियों बजरंग सिंह पालडी, मंगल सिंह अरटिया, रघुवीर सिंह बाघोरिया, प्रकाश जाट, युवराज सिंह व अन्य को कैलाश मांजू तथा राकेश माँजू की वितराग सिटी में आने-जाने की रैकी करने तथा गोली मारने की जगह चिन्हित करने का काम दिया। रैकी के बाद फायरिंग का स्थान तय कर 01 फरवरी 2023 को राकेश मांजू पर फायरिंग कर अलग-अलग रास्तों से फरार हो गये।
मंगलवार को पूर्व जिले की टीम द्वारा योजनाबद्ध तरीके से भरसक प्रयास कर विक्रम सिंह नांदिया (Vikram Singh Nandia) और दिनेश बम्बानी को गिरफ्तार किया गया।

कार्यवाही में शामिल पुलिस टीम:-

एसपी बोरानाडा जयप्रकाश अटल, एसएचओ बोरानाडा देवीचंद ढ़ाका, अपराध सहायक भारत रावत, उप निरीक्षक डीएसटी दिनेश डांगी, डीएसटी के कॉन्स्टेबल गिरवर सिंह, अकरम खान किशन सिंह और हेड कांस्टेबल चालक गंगा सिंह।

ये भी पढ़े – राजस्‍थान में आने वाला है मानसून, IMD ने बताई तारीख और कैसी रहेगी बरसात

इससे जुड़ी ख़बरें
- Advertisment -